ZMA क्या है? इसके क्या फायदे हैं

ZMA आज के टाइम पर इसके ऊपर काफी चर्चा हो रही है। लेकिन यह एग्जैक्ट ली है क्या क्या करता है और सबसे इंपॉर्टेंट है। क्या यह वास्तव में वर्क करता है। क्यों ऐसा सोचा जाता है कि यह सप्लीमेंट सभी के लिए बहुत जरूरी है। क्यों सभी को ट्राई करना चाहिए।

athlete or bodybuilders बहुत सारी मेहनत करते हैं जिसमें काफी पसीना आता है और इस पसीने से बहुत सारे मिनरल्स व न्यूट्रिएंट्स बह जाते हैं जिसके कारण शरीर में इन मिनरल्स की कमी हो जाती है और जिस कारण शरीर पूरी अच्छी तरीके से परफॉर्म नहीं कर पाता है।


ZMA क्या होता है?


ZMA में मुख्यतः दो चीजों का मिश्रण होता है जिंक और मैग्नीशियम और विटामिन B- 6 यह तीनों ही contant बहुत इंपॉर्टेंट है शरीर की बायोलॉजिकल प्रोसेस के लिए बेहद जरूरी है। इन तीनों ही सप्लीमेंट को आप अलग अलग भी ले सकते हैं लेकिन फिर उस में दिक्कत यह होगी टाइम ज्यादा लगेगा। और वही जब आप सप्लीमेंट लेते हैं तो उसमें एक सही अनुपात में आपको यह तीनों ही सप्लीमेंट एक साथ मिल जाते हैं और आपकी टाइम की बचत हो जाती हैं।


ZMA की जरूरत क्यों है?


ज्यादा वर्कआउट से विटामिन और मिनरल्स की शरीर में कमी हो जाती है। bodybuilding ZMA की जरूरत इसलिए ज्यादा होती है क्योंकि है टेस्टरॉन लेवल को बढ़ाता है। अगर जिंक और मैग्नीशियम का लेवल कम है तो इसे कहते बहुत नेगेटिव होता है जिस कारण मसल्स ग्रोथ सही से नहीं हो पायेगी। सीलिए बहुत जरूरी हो जाता है कि मैग्नीशियम और जिंक की कमी शरीर में ना हो पाए। ZMA के उपयोग से एथलीटों में 43.7% ज्यादा टेस्टोरोन लेवल होता है। और 25% ज्यादा IFG1 लेवल होता है। और उनकी स्ट्रैंथ ढाई गुना ज्यादा हो जाती है। ZMA का महज़ 4 हफ़्तों मैं ही यह फर्क नजर आने लगता है।



ZMA के उपयोग से मसल्स में बहुत जल्दी इंक्रीज होता है ऐसा देखा गया है कि अच्छी प्रोटीन डाइट के साथ ZMA के उपयोग से 4 से 5 KG बजन ज्यादा हो जाता है। और अगर कोई भी सप्लीमेंट का यूज नहीं करते हैं फिर भी तो 2- 3 किलो वजन बढ़ जाता है।


ZMA का इस्तेमाल किसे करना चाहिए?


दोस्तों जो ज्यादा वर्कआउट करते हैं जो ज्यादा पसीने को आते हैं उनके अंदर जिंक मैग्निशियम विटामिन B-6 की कमी हो जाती है। अब ऐसी स्थिति में अगर आपकी डाइट काफी अच्छी है और डाइट में यह सारे सप्लीमेंट है तो इस सप्लीमेंट की जरूरत नहीं होती है और अगर DIET से ये सप्लीमेंट आप नहीं जुटा पा रहे हैं तब आपको इस सप्लीमेंट को लेने की जरूरत है। या फिर जिनका लीवर सही से वर्क नहीं करता है तो उनके अंदर विटामिंस की कमी हो, या फिर टेस्टरॉन का लेवल कम हो उन्हें ZMA SUPPLIMENT को जरूर लेना चाहिए।


ZMA लेने का सही समय क्या है?


ZMA को खाली पेट लेना चाहिए तो यह बहुत ही किफायति होता है। और अगर शाम को लेते हैं ZMA को खाना खाने के 1 घंटे बाद तथा सोने से डेढ़ घंटे पहले लेना चाहिए।और इस सप्लीमेंट लेने से आपका बहुत बढ़िया नींद आएगी। इससे ना केवल अच्छी नींद आती है बल्कि आपके मसल्स की रिकवरी रेट भी बढेगा। आप जब समय उठेंगे तो ऊर्जा से भरे होंगे।

ये भी पढ़ें – शाकाहारी सबसे सस्ता प्रोटीन सोर्स सिर्फ 10 रूपए में 50ग्राम प्रोटीन


ZMA कैसे लेना चाहिए?


ZMA सप्लीमेंट कैप्सूल और पाउडर दोनों फॉर्म में आता है लेकिन ज्यादातर कैप्सूल फॉर्म ही होता है जिसमें 30mg जिंक, 450mg मैग्नीशियम और 10.5MG विटामिन B-6 होता है। और इस सप्लीमेंट को दिन में एक बार आप यूज कर सकते है। और किसी और सप्लीमेंट को यूज कर रहे हैं तो आपको सप्लीमेंट को लेने के एक डेढ़ घंटे बाद इसको लेना चाहिए एक साथ बिल्कुल भी ना खाएं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *