Natural Viagra| Desi viagra

Erectile dysfunction (स्तंभ दोश)। यह एक ऐसी स्तिथि होती है जिसमें पुरुष अपने गुप्तांग को सेहवास के दौरान कठोर नहीं रख पाता। सेहवास क्रिया अधूरी रह जाती है तथा स्त्री पुरुष दोनों को सेहवास का आनंद नही मिल पाता है।
ऐसी स्तिथि में डाक्टर उन्हैं सेक्स वरधक गोलियाँ देते हैं, ये गोलियां ब्लड फ्लो को गुप्तांग की तरफ बढा देता है। जिससे कुछ समय के लिये गुप्तांग मे कठोरता आती है, समस्या में आराम मिलता है। यह ऐक वैकल्पिक व्यावस्था है.
इस तरह से लगातार दवाईयों का सेवन शरीर मे गम्भीर समस्याओ को जन्म दे सकता है।


कुछ खतरनांक दवाईयां जैसे Viagra sildenafil जैसी दावाईयां हस समय लेंना या ज्यादा मात्रा में लेना खतरनाँक होने के साथ जानलेवा भी हो सकता है।


लोग अक्सर नेचुरल वयागरा( Natural Viagra ) खोजते है। क्योंकी प्राक्रतिक दवाईयों के साइड इफेक्टस नही होते है।
एसी ही एक प्राक्रतिक उपचार को आज बतानें जा राहा हुं। जिसको लेने ले न केवल आपकी समस्या खत्म होगी साथ में किसी तरह का कोई साइड इफेक्ट भी नहीं होगा।
यह एक प्राक्रतिक फल है जो की गर्मियों के मौसम में मिलता है। हिंदी मे इसका नाम तरबूज ( Water Melon ) कहते है जो ना केवल खानें में स्वादिष्ट है ये शरीर में पानी की कमी को पूरा करता है तथा यह एक natural Viagra है।


water melon research क्या कहती है?


तरबूजे मे उचित मात्रा में एल-सिट्रुलिन पाया जाता है। यह एक Nonessential amino acid है जैसे ही ये Nitric oxide System से मिलता है ये ब्लड प्रेसर को कम कर blood flow सही करता है।


शोधों से पाता चलता है कि एल-सिट्रुलिन खाने वाले पुरुषों मे नपुंसुकता कम पाई जाती है।
अर्थात इसे सप्पलीमेंन्ट के रुप मे ले सकते है।


इसे कैसे और कितने समय तक लेना है
तरबूज को एक दिन खाने से कोई फयदा नही मिलेगा। इसे लम्बे समय तक 300-400 ग्राम प्रातिदिन लेना होगा।


L-Citrulline Naturally और किन किन चीजों मे पाया जाता है
शाकाहारी खाद्यों मे एल-सिट्रूलिन दाल और लहसन में भी पाया जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Telegram
WhatsApp