Monday, January 17, 2022
HomeBodybuilding supplementsL-carnitine Supplement | एल-कार्निटिन क्या है? यह बॉडीबिल्डिंग में क्या करता है?

L-carnitine Supplement | एल-कार्निटिन क्या है? यह बॉडीबिल्डिंग में क्या करता है?

L-carnitine supplements एक फैट बर्नर और परफॉरमेंस बढ़ाने वाला सुप्पलीमेंट है। यह बहुत पुराने समय से उपयोग में रहा है। जब एल-carnitine को सही से लेंगे तो इस के प्रभाव से बॉडी का शेप और वर्कआउट स्टैमिना दोनों ही बढ़ेंगे। जिस से ज्यादा वर्कआउट कर पाएंगे और बॉडी ज्यादा पंप करेगी। जिस से मसल्स बढेगे और फैट कम होगा।

What Is L-Carnitine supplements?


L-Carnitine को एमिनो एसिड्स या फिर विटामिन्स की श्रेड़ी का माना जाता है। यह compound विटामिन B से सम्बंधित है। 1950 के दसक में इसपर शोध हुआ और इसे विटामिन BT नाम दिया।


L-carnitine लिवर, किडनी में एमिनो एसिड्स lysine और methionine से बनता है। हालांकि, यह शरीर के अन्य भागों में जमा हो जाता है, मुख्य रूप से मांसपेशियों (heart), मस्तिष्क और शुक्राणु (sperm) में भी। यह कुछ आहारों में भी पाया जाता है जैसे मीट, अवोकेडो, सोयाबीन इसके अच्छे सोर्स हैं


Carnitine दो रूपो में मिलता है- D-Carnitine और L-Carnitine. D-Carnitine बायोलॉजिकल रूप से inactive होता है। इस लिए यह सुप्पलीमेंट्स के तौर पर नहीं बेचा जाता है। और L-कार्निटिन biologically active होता है। और इसको अलग अलग नामो से जानते है जैसे L-carnitine, L-carnitine L-tartrate, या फिर Propionyl-L-carnitine.

Acetyl L-carnitine, इसे acetylcarnitine or ALCAR के नाम से भी जानते हैं। यह बहुत प्रशिद्ध कार्निटिन का रूप है। जो की बॉडी में central nervous system में पाया जाता है। जहाँ पर यह एनर्जी प्रोडक्शन का काम करता है जिस से nutrotransmeter acetylcholine का प्रोडक्शन होता है।

ये भी पढ़ें BCAA क्या होता है? इसके क्या फायदें हैं?

What Does L-Carntine supplements Do?

ल-कार्निटिन सुप्पलीमेंट long chain fatty acids फैट को माइटोकांड्रिया सेल में ट्रांसपोर्ट करता है। जहाँ पर फैटी एसिड्स ऑक्सीकृत होकर ATP (adenosine triphosphate) जो ऊर्जा की प्राइमरी इकाई है, में उपयोग करती है। L-कार्निटिन इस cellullar फक्शन को वर्कआउट के दौरान और रेस्ट के समय करती है। लेकिन रिसर्च के अनुसार यह हार्ड वर्कआउट में ज्यादा effective होती है।
बिना L-कार्निटिन के फैट माइटोकॉन्ड्रिया तक नहीं पहुचता जिस से फैट बर्न नही हो पाता है।


What Are The Performance And Physique Applications Of L-Carnitine supplements

L-carnitine supplements फैट बर्निंग सुप्पलीमेंट्स के नाम से जाना जाता है। गेनिंग के समय भी इस से प्रयोग से लीन मसल्स बना सकते है। इसी कारण से इसका प्रयोग बोडीबिल्डर्स खूब करते हैं।

एक शोध में पाया गया जो जो लोग इस का प्रयोग करते है वह 25% ज्यादा देर तक बिना थके वर्कआउट कर पाते हैं। क्यों की ल-कार्निटिन फैट को ऊर्जा में बदलकर ग्लाइकोजन को शुराक्षित करता है। जिस के फलस्वरूप लैक्टिक एसिड कम बनता है और क्रेटीन फॉस्फेट की मात्रा बढ़ती है। जो की वर्कआउट के दौरान त्वारित ऊर्जा प्रदान करता है।

ये भी पढ़ें – प्रोटीन क्या होता है और क्यों बॉडीबिल्डिंग से सबसे जरूरी है? कितना प्रोटीन जरूरी होता है?

बहुत सी रिसर्च ने माना है कि ल-कार्निटिन की 1-2 ग्राम डोज़ रोज लेने पर वर्कआउट से मसल्स डैमेज कम होता है। और मसल्स रिकवरी जल्दी होती है तथा मांसपेशीय दर्द कम होता है।
L-carnitine supplements परफॉरमेंस में बेनिफिट होता है बल्कि यह फैट बर्न करता है और ग्लाइकोजन (यह बॉडी का प्राइमरी सोर्स है एनर्जी का) कम उपयोग करता है और साथ में यह मसल्स में रक्त के संचार को बढ़ाता है। रक्त संचार के बफने से बॉडी को ज्यादा न्युट्रिशन मिलते हैं। और ज्यादा न्यूट्रिएंट्स से ज्यादा हार्मोन्स बनते है। जो की वर्कआउट परफॉरमेंस को बढ़ाते हैं।


How does L-carnitine supplements work?


हाई इंटेंसिटी वर्कआउट में ऑक्सीजन की कमी हो जाती है जिस कारण मसल्स डैमेज ज्यादा होता है। L-arginine इस डैमेज को कम करता है क्यों की यह नाइट्रिक ऑक्साइड की मात्रा को बढ़ाता है। जिस के परिणाम स्वरुप ज्यादा वर्कआउट कर पाएंगे और जल्दी ही मसल्स रिकवरी होगी।

ये भी पढ़ें वेजेटेरियन बॉडीबिल्डर टिप्स इन हिंदी


Are There Side Effects To L-Carnitine Supplementation?


जब आप इसकी डोज को ज्यादा मात्रा में लेंगे तो कुछ साइड इफेक्ट्स होते है। जैसे साँस लेने में तकलीफ होगी, पेट दर्द, उल्टी, डायरिया इत्यादि।


How Should I Stack L-Carnitine supplements?


अगर अपको L-carnitine का पूरा फायदा उठाना है तो इसे जब हाई कार्ब्स और प्रोटीन के साथ लें। जिस से बॉडी में high level का इन्सुलिन spike करे। क्यों की हाई इंसुलिन ज्यादा ग्लाइकोजन के साथ ज्यादा ल-कार्निटिन को मसल्स में डिलीवर करता है।
ल-कार्निटिन के 2-3ग्राम के साथ 30-40 ग्राम कार्ब्स और 20-40ग्राम प्रोटीन होना चाहिए। और इसके साथ फैट बर्निंग प्रभाव को बढ़ाने के लिए ये कंटेंट जैसे कॉफ़ी, ग्रीन टी भी ले सकते है।

ये भी पढ़ें टॉप क्रेटीन सुप्पलीमेंट्स इन इंडिया


L-carnitine supplements को कितना लेना चाहिए?


L-CARNITINE की सही डोज 500 से 2000 mg प्रतिदिन नार्मल रहती है। कितना डोज आपके लिए suitable है ये आपकी बॉडी और ट्रेनिंग पर निर्भर करता है। किसी के लिए 1gm तो किसी के लिए 4gm प्रतिदिन की डोज़ ठीक होती है।


How To Take L-Carnitine To Improve running Speed?


दौड़ की स्पीड बढ़ाने के लिए 3 ग्राम एल-कार्निटिन जूस के साथ 1.5 घंटे पहले लेंगे तो यह तेज दौड़ में मदद करेगा।


How To Take L-Carnitine For Weight Loss?


1.4 ग्राम एल-कार्निटिन प्रतिदिन दिन में 2 बार लें। जिस से बॉडी में कार्निटिन का लावेल इनक्रीस होगा। और फैट burn होगा।


How To Take L-Carnitine To Improve Performance?


एल-कार्निटिन के प्रयोग अगर स्टैमिना बढ़ाने के लिए करना है तो 2ग्राम कार्निटिन दिन में दोबारा 80 ग्राम कार्बोहायड्रेट के साथ लेंगे तो स्टैमिना और endurance दोनी में बदोत्तर होगी।


Should I Cycle L-Carnitine?


L-carnitine की cycle की कोई जरूरत नही होती है। इसके इफेक्ट्स के लिए इसे लंबे समय तक ले सकते हैं।


When Should I Take L-Carnitine?


सबसे अच्छा टाइम L-carnitine को लेने का पोस्ट वर्कआउट। इसे हाई कार्ब्स, प्रोटीन के साथ लेना चाहिए।



ये भी पढ़ें – winstrol steroid क्या होता है? क्यों इसे बॉडीबिल्डर उपयोग करते है? साइड इफेक्ट्स?

Noblerunnerhttps://noblerunner.com
Hi guys. I am enthusiastic of running. I like to spend my time for running. So by this blog i can always contact with running. And feeling happy to solve and share my experience.
RELATED ARTICLES

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments