Cycling for Running  | साईकिल से रनिंग कैसे अच्छी होगी।

Cycling for Running | साईकिल से रनिंग कैसे अच्छी होगी।

March 16, 2019 0 By Noblerunner
Share with Friend's

Cycling for Running


अगर आपने अभी रनिंग करना शुरू किया है या आप एक प्रोफेसनल रनर है। तो साइकिल में आपके लिए बहुत अच्छा सोर्स हो सकता है अपनी रनिंग परफारमेंस को improove करने के लिए। साइकिल एक एक ऐसा एक्सरसाइज है जिससे आप कभी बोर भी नहीं होगें। साथ ही मांशपेशियां फेलेक्सिबल होंगी और परफॉर्मेंस भी बढ़ेगी साथ ही आपकी बॉडी रिकवर भी कर पाएगी। तो आज के इस पोस्ट पर मैं आपको बताऊंगा साइकिलिंग से क्या-क्या बेनिफिट्स होते हैं।


Cycling for Running – It is a great form of active recovery


अगर आपको shine splints की प्रॉब्लम है या फिर आपको रनिंग से और कोई इंज्रीज भी है जिस वजह से आप अगर दौड़ने के लिए जाएंगे तो वह इंजरी बढ़ सकती है। लेकिन वही अगर आप साइकिलिंग करते हैं तो आप अपनी इंज्रीज को कम कर सकते हैं। इससे आपके पैर के calf और hemstring की recovery होगी।


Cycling for Running – Build muscles strength and complimentry Muscles


साइकिलिंग करने से आपके पैरों के मसल्स बनते हैं। साइकिलिंग को अगर आप अपने डेली रूटीन 5-10 किलोमीटर स्पीड में दौड़ाएंगे तो धीरे धीरे आपके पैर मजबूत हो जायेंगे। और सबसे बड़ा फायदा ये होगा की जिन मसल्स पर रनिंग में जोर नहीं पड़ता है। उन मसल्स को साइकिलिंग के द्वारा मजबूत किया जा सकता है।

इसे भी पढ़ें  आर्मी भर्ती दौड़ की तैयारी 15 दिनों में | complete 1600 meter race in 15 days
Cycling for running


Cycling for Running – Increase cadence


अगर आप साइकिल को स्पीड के साथ करते हैं तो यह आपकी स्पीड रनिंग स्पीड को भी बढ़ाता है क्योंकि जितनी ही तेजी से आप साइकिल के पैडल मारेंगे उससे आपके कदमों की संख्या भी बढ़ेगी यानी कि पैरों की frequency भी बढ़ेगी। जिससे अगर आप इस तरीके से साइकिलिंग करते रहेंगे। तो यह कितने की स्पीड में भी बढ़ोतरी होगी।


Cycling for Running – Increase bon density


अगर आपका वजन ज्यादा है या फिर आपके पैरों की हड्डियों को मजबूत नहीं है तो इसको आप रनिंग के जरिए से मजबूत करने के लिए बहुत ध्यान रखना होगा कहीं पैरों में फ्रैक्चर जैसी समस्या ना हो जाए और वही पर आप साइकिलिंग करते हैं तो इससे ज्यादा बजन पैरों पर नहीं पड़ता है और पैरों की डेंसिटी धीरे-धीरे बढ़ती जाएगी वह धीरे धीरे हड्डियां मजबूत होते जाएंगे।


Cycling for Running – Increase cardiovascular


दौड़ के दौरान हम कुछ ही देर में थक जाते हैं जिसका कारण होता है फेफड़ों का जल्दी फूल जाना या छाती का जल्दी थक जाती है और फैफड़े जब थक जाते है तो दौड़ना बंद करना पड़ता है। और पैर अभी दौड़ने के लिए तैयार हैं लेकिन फिर भी दोबारा फिर से दौड़ना मुश्किल हो जाता है। वहीं अगर आप साइकिलिंग करते हैं तो आप कुछ ही कुछ दूर में तेजी से साथ साइकिलिंग कर सकते हैं जब आप थक जाए तो पैदल भरना बंद कर दें वहीं फिर से जवाब रिकवर हो जाए फिर से तेजी से साथ पैडल मारें और अपनी फेफडो की capacity को बड़ा सकते हैं।

इसे भी पढ़ें  Join Indian Army bharti| How to clear excellent Rally race in hindi


Cycling for Running – Increase tolerance


साइकिलिंग से आपकी पूरी बॉडी का टोलरेंस पावर बढ़ता है क्योंकि साइकलिंग में आप बहुत देर तक परफारमेंस दे पाते हैं जिससे बॉडी का स्ट्रेंथ और tolerance पावर बढ़ता है वहीं अगर आप रनिंग को इंक्लाइंड सरफेस (ऊँचाई )पर करेंगे तो यह और भी ज्यादा बेनिफिशियल होगा।


Cycling for Running – Decrease injuries

Cycling benifits in running


आपकी बॉडी में जो भी injuries हैं चाहे वह पैर में हो या के अप्पर बॉडी में हो अगर आप साइकिलिंग करते हैं जिससे ब्लड सरकुलेशन बढ़ेगा और वह एंग्री बहुत जल्दी ही ठीक हो पाएगा।


Cycling for Running – Help to maintain helathy weight


अगर कोई अपने मोटापे से परेशान है तो साइकिलिंग बजन कम करने में बहुत ही कारगर साबित हो सकता है। और हेल्थी weight बनाने में help करेगा। तेजी से साइकिलिंग करने पर आप लगभग 300 कैलोरीज को burn कर सकते हैं। जो की काफी eassy method होगा।

Cycling for Running | साईकिल से रनिंग कैसे अच्छी होगी।
5 (100%) 2 votes